समाचार
सोनभद्र नरसंहार- योगी आदित्यनाथ का कांग्रेस शासन पर निशाना, मुख्य आरोपी सपा का

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र नरसंहार में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 18.5 लाख रुपये की आर्थिक मदद की घोषणा की। इस वारदात में नौ आदिवासियों के मरने और कई के घायल होने का दावा किया गया। घायलों को भी राज्य से 2.5 लाख रुपये की मदद मिलेगी।

लाइव हिंदुस्तान  की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने कहा, “मामले से संबंधित भूमि के कामों और अन्य दस्तावेजों की जाँच के लिए एक त्रि-स्तरीय समिति बनाई गई, जिसे 10 दिनों में एक रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया गया है।”

17 जुलाई को सोनभद्र के घोरावल पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मुरतिया गाँव में ग्राम प्रधान और उसके गुर्गों ने तीन महिलाओं सहित नौ लोगों को गोली मार दी थी।

मुख्यमंत्री ने राजनीतिक साँठगाँठ की ओर इशारा करते हुए अपराधियों को सक्षम बनाने का दावा किया। उन्होंने कहा, “1989 में ज़मीन हड़पने की शुरुआत कांग्रेस के सत्ता में रहने के दौरान हुई। यह तब हुआ, जब राज्य में राजनीतिक सत्ता वालों को एक ट्रस्ट से काम हस्तांतरित किए गए थे।”

योगी आदित्यनाथ ने कहा, मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञ दत्ता समाजवादी पार्टी (सपा) का नेता था। दूसरी ओर दत्ता का भाई बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का नेता था। उन्होंने भरोसा दिलाया कि पीड़ितों को न्याय मिलेगा दत्ता व उनके गुर्गों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत मुकदमा चलाया जाएगा।

मुख्यमंत्री का मुँहतोड़ जवाब तब आया, जब कांग्रेस नेता प्रियंका वाड्रा ने दावा किया था कि उनकी पार्टी की सक्रियता के कारण इस मुद्दे को उठाया गया था। उन्होंने यह भी घोषणा की, “1952 से क्षेत्र में भूमि विवादों को हल करने के लिए राजस्व विभाग प्रमुख के तहत एक विशेष राजस्व विभाग समिति का गठन किया जाएगा।”