समाचार
भारत-चीन तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में सेना के जवानों को प्रचंड ठंड से बचाएँगे स्मार्ट कैंप

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तैनात भारतीय सेना के जवानों के लिए स्मार्ट कैंप उपयोग के लिए तैयार हैं। इसकी सहायता से जवान भारत-चीन तनाव के बीच वहाँ पड़ने वाली प्रचंड सर्दी से बच सकेंगे।

भारतीय सेना ने एलएसी के साथ भारतीय क्षेत्र में चीन की सेना का मुकाबला करने के लिए 50,000 से अधिक सैनिकों को तैनात किया है।

इन स्मार्ट कैंपों की बेहद आवश्यकता होती है क्योंकि सर्दियों के दौरान लद्दाख में तापमान काफी हद तक गिर जाता है। यह अक्सर जमाने वाली बिंदु से 40 डिग्री नीचे पहुँच जाता है।

दिसंबर और फरवरी के बीच जब सर्दियाँ चरम पर होती हैं तो क्षेत्र में कई फुट ऊँची बर्फ (30 से 40 फीट) जमा हो जाती है। नवंबर और मार्च के बीच प्रचंड सर्दियों के दौरान सैनिकों की आवाजाही को आसान बनाने और उनको जिंदा रखने के लिए इन कैंपों को पिछले कुछ महीने पहले से लद्दाख में एक इंफ्रास्ट्रक्चर ड्राइव के हिस्से के रूप में बनाया गया है।

अधिकारियों का कहना है कि इनमें बिजली, पानी और गर्माहट की व्यवस्था है। दोनों देशों के बीच वार्ता में कोई समाधान नहीं निकलने पर पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच गतिरोध की स्थिति सर्दियों में भी जारी रहने की आशंका है। तापमान में गिरावट के कारण भारतीय सेना ऊँचाई पर तैनात रहेगी।