समाचार
कोविड-19- त्वचा उपचार वाले इटोलीजुमैब को सीमित आपातकालीन उपयोग की अनुमति

भारत की दवा नियामक संस्था (डीसीजीआई) ने त्वचा में होने वाली बीमारी सोरायसिस को ठीक करने के लिए उपयोग किए जाने वाले इंजेक्शन इटोलीजुमैब को मरीजों पर सीमित आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी है। यह कदम देश में कोविड-19 के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए उठाया गया है।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 के उपचार की ज़रूरतों को ध्यान में रख डीसीजीआई के डॉक्टर वीजी सोमानी ने मोनोक्लोनल एंटीबॉडी इंजेक्शन इटोलीजुमैब को मरीजों पर उपयोग करने की अनुमति दी है। यह बायोकॉन की पहले ही स्वीकृत दवाओं में से एक है।

सोमनी ने कहा, “यह दवा उन रोगियों को दी जाएगी, जो सांस लेने की गंभीर समस्या का सामना कर रहे हैं। इससे परेशानी को कम किया जा सकता है। दवा के माध्यम से साइटोकाइन रिलीज सिंड्रोम को नियंत्रित किया जाता है, ताकि जिन वजहों से रोगी की प्रतिरोधक क्षमता पर खतरा आए उसे टाला जा सके।”

एक अधिकारी के अनुसार, देश में कोविड-19 मरीजों पर हुए परीक्षण के बाद इसे स्वीकृति दी गई है। स्वीकृति देने वालों में एम्स के पल्मोनोलॉजिस्ट, फार्माकोलॉजिस्ट और मेडिसिन विशेषज्ञों शामिल थे।