समाचार
सिंगापुर ने इंडोनेशिया को देख चीनी वैक्सीन सिनोवैक की प्रभावशीलता पर संदेह जताया

सिंगापुर ने भले ही अपने देश के लोगों को महामारी से बचाने के लिए चीनी कंपनी सिनोवैक के कोविड-19 टीकों का उपयोग शुरू कर दिया हो लेकिन द्वीप राष्ट्र के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों ने उक्त वैक्सीन की प्रभावशीलता पर संदेह व्यक्त किया है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सिंगापुर के चिकित्सा सेवा निदेशक केनेथ मैक ने इंडोनेशिया के मामले का हवाला देते हुए कहा कि वह सिनोवैक के टीके से लोगों के बीमार होने की खबरों से चिंतित हैं।

यह बात तब सामने आती है, जब इंडोनेशिया के अधिकारियों ने इस सप्ताह की शुरुआत में खुलासा किया था कि सिनोवैक के टीकाकरण के बावजूद 350 से अधिक चिकित्सक और चिकित्सा कर्मचारी संक्रमित हो गए हैं और दर्जनों अस्पताल में भर्ती हुए हैं। ऐसे में कोरोना के कई संक्रामक प्रकारों के विरुद्ध टीके की प्रभावशीलता पर चिंता व्यक्त की जा रही है।

अस्पताल में भर्ती होने वाले अधिकांश कार्यकर्ता स्पर्शोन्मुख थे। मध्य जावा में एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा साझा किए गए विवरण के अनुसार, दर्जनों मरीज़ों को तेज बुखार व गिरते ऑक्सीजन के स्तर के साथ अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

यह गौर किया जाना चाहिए कि इंडोनेशियाई स्वास्थ्य कार्यकर्ता जनवरी में देश में टीकाकरण अभियान शुरू होने पर सिनोवैक के टीके के साथ वायरस के विरुद्ध वैक्सीन लगाने वाले पहले लोगों में से थे।