समाचार
पाकिस्तान से बैसाखी मना लौटने वाले कोविड संक्रमित सिख तीर्थयात्रियों ने फाड़ी रिपोर्ट

पाकिस्तान से लौटने के बाद करीब 100 सिख तीर्थयात्री कोविड-19 परीक्षण के दौरान संक्रमित पाए गए हैं। ये संक्रमित तीर्थयात्री उन 815 यात्रियों में से हैं, जो लाहौर के गुरुद्वारा पंज साहिब में बैसाखी मनाने के लिए पाकिस्तान गए थे। उन्होंने 19 अप्रैल को करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब और पाकिस्तान के अन्य स्थानों का भी दौरा किया था।

अटारी-वाघा सीमा पर संयुक्त चेक पोस्ट तक पहुँचने वाले तीर्थयात्रियों के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है। एक अधिकारी के हवाले से कहा गया, “शुरू में परीक्षण के दौरान नकारात्मक रिपोर्ट वालों को ही घर जाने की अनुमति दी गई थी, जबकि अन्य जो सकारात्मक निकले उनको संरक्षण में रखा गया।”

रिपोर्ट में कहा गया कि वहाँ कुछ असमान्य बातें भी हुई थीं। दरअसल, कुछ तीर्थयात्री स्वास्थ्य कर्मचारियों से भिड़ गए थे। उन्होंने परीक्षण में सकारात्मक निकलने के बारे में जानने के लिए रिपोर्ट छीन ली थीं और उन्हें फाड़ भी दिया था। उनका दावा था कि वे जब पाकिस्तान के लिए रवाना हुए तो उनकी रिपोर्ट नकारात्मक आई थी।

एक अधिकारी के हवाले से कहा गया, “वर्तमान में श्रद्धालुओं को अपने घरों में खुद क्वारंटीन होने के लिए कहा गया है। हालाँकि, ऐसे मरीजों को क्वारंटाइन करने के लिए सरकारी स्तर पर कोई विशेष संस्थान की व्यवस्था नहीं की गई है।”

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने तीर्थयात्रियों के उपचार को प्रायोजित किया है। इसके अध्यक्ष बीबी जागीर कौर ने कहा, “अस्पताल में भर्ती होने वाले सिख तीर्थयात्रियों का एसजीपीसी द्वारा संचालित अस्पताल में निःशुल्क उपचार किया जाएगा।”