समाचार
भारत से 2206 सिख तीर्थयात्री बैसाखी मनाने पहुँचे पाकिस्तान के पंजा साहिब

करीब 2206 सिख तीर्थयात्री भारत से पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में हसन अब्दाल स्थित गुरुद्वारा पंजा साहिब में बैसाखी उत्सव मनाने के लिए पहुँचे। यह रावलपिंडी शहर से करीब 40 किमी दूर पड़ता है।

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय तीर्थयात्री 10 दिन पाकिस्तान में रहेंगे और 21 अप्रैल को वापस भारत के लिए रवाना होंगे। इस दौरान तीर्थयात्री ननकाना साहिब सहित पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के कई अन्य गुरुद्वारों में भी जाएँगे। पंजा साहिब गुरुद्वारा की इसलिए मान्यता है क्योंकि वहाँ सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी की हथेली के निशान पत्थर पर मौजूद हैं।

दो विशेष ट्रेनों से वाघा रेलवे स्टेशन पहुंचे तीर्थयात्रियों की अगवानी इवैक्यू ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के सचिव तारिक खान और पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के अध्यक्ष सरदार तारा सिंह ने की। तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करते हुए सेना बलों और रेंजर्स को तैनात किया गया है।

भारतीय प्रतिनिधिमंडल के नेता सरदार वर्मिन्दर सिंह खालसा ने आशा व्यक्त की है कि सरकार गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर बड़ी संख्या में भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को वीजा जारी करेगी। पाकिस्तान-भारत प्रोटोकॉल के तहत हर साल भारत से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्री विभिन्न धार्मिक त्यौहारों और अवसरों के लिए पाकिस्तान जाते हैं।