समाचार
जम्मू-कश्मीर में मतांतरण को लेकर सिख नेताओं ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री से भेंट की

कश्मीर घाटी में दो सिख लड़कियों का जबरदस्ती मतांतरण करवाए जाने की घटना को लेकर सिख नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल मंगलवार (29 जून) को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी कृष्ण रेड्डी से मिला और उन्हें इस संबंध में एक ज्ञापन सौंपा।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सरदार आरपी सिंह के नेतृत्व में प्रतिनिधि मंडल ने सिख लड़कियों के जबरन मतांतरण पर कार्रवाई की मांग की। इस पर मंत्री ने आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन दिया।

प्रतिनिधि मंडल से भेंट के बाद जी कृष्ण रेड्डी ने कहा, “प्रतिनिधि मंडल ने कश्मीर में सिख लड़कियों के कथित जबरन मतांतरण और विवाह को लेकर एक ज्ञापन सौंपा है। मैं इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री से आवश्यक कार्रवाई के बारे में चर्चा करूँगा।”

सरदार आरपी सिंह ने कहा, “कश्मीर पाकिस्तान नहीं है, जहाँ सिखों को मतांतरण के लिए विवश किया जा सकता है। हम ऐसा नहीं होने देंगे। जत्थेदार अकाल तख्त साहिब ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल को लव जिहाद के विरुद्ध कानून लाने के लिए एक पत्र लिखा है। उन्हें राज्य में धर्म परिवर्तन के विरुद्ध पंजाब के मुख्यमंत्री को भी इसी तरह का एक पत्र लिखना चाहिए।”

प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहने वाले दिल्ली भाजपा के सचिव इम्प्रीत सिंह बख्शी ने कहा, “हमने गृह राज्यमंत्री से मतांतरण के खिलाफ अध्यादेश लाने का अनुरोध किया है। उन्होंने उचित कार्रवाई का आश्वासन भी दिया है।”