समाचार
कश्मीर में राजमार्ग के लिए सिख समुदाय ने दी 72 वर्ष पुराना गुरुद्वारा तोड़ने की अनुमति

कश्मीर में श्रीनगर से बारामूला के लिए बनाए जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग के लिए सिख समुदाए ने एक 72 साल पुराने गुरुद्वारे को तोड़ने की अनुमति दी है। इस वजह से राजमार्ग का निर्माण करीब एक दशक से रुका हुआ था।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सिख समुदाय और श्रीनगर जिला प्रशासन के बीच हुए एक समझौते में तय हुआ कि पास में ही एक वैकल्पिक जगह पर नए गुरुद्वारे का निर्माण किया जाएगा। श्रीनगर के उपायुक्त शाहिद इकबाल चौधरी ने गतिरोध तोड़ने के लिए व्यक्तिगत रूप से चर्चा में हस्तक्षेप किया था।

उन्होंने इस मुद्दे का समाधान निकालने के लिए सिख समुदाय से संपर्क किया। शाहिद इकबाल ने कहा, “यह ऐतिहासिक निर्णय है। श्रीनगर में राष्ट्रीय राजमार्ग के लिए गुरुद्वारा कमिटी ने सहमति दे दी। हमारी बातचीत हो रही थी। वैकल्पिक जमीन और सहयोग के लिए हमारा प्रस्ताव उन्होंने स्वीकार कर लिया। संगत को धन्यवाद देने के लिए कोई शब्द नहीं है।”

एक अधिकारी ने बताया, “गुरुवार को उपायुक्त और गुरुद्वारा प्रबंधन की मौजूदगी में गुरुद्वारा दमदमा साहिब को तोड़ने का काम शुरू हुआ। नई जगह पर जब तक गुरुद्वारा बन नहीं जाता, तब तक यह एक अस्थायी स्थान में रहेगा। राज्य के लोक निर्माण विभाग को सिख समुदाय द्वारा दिए किए गए डिजाइन के अनुसार गुरुद्वारा के निर्माण का काम सौंपा गया है।”

बता दें कि इस गुरुद्वारे का निर्माण साल 1947 में हुआ था। गुरुद्वारा दमदमा साहिब ने मुख्य रूप से पाकिस्तान से आए प्रवासी परिवारों की सेवा की। इसमें लंगर चलाया जाता है।