समाचार
शिवसेना के मुखपत्र सामना ने जेएनयू मामले को लेकर सरकार के ‘दमन’ पर साधा हमला

शिवसेना के मुखपत्र सामना में एक बार फिर से केंद्र सरकार पर निशाना साधा गया है। रिपब्लिक  की खबर के अनुसार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्रावास शुल्क वृद्धि और पुलिस द्वारा छात्रों पर हुए लाठीचार्ज इस बार शिवसेना के हमले की वजह है।

सामना के लेख जिसका शीर्षक ‘दिल्ली की सड़कों पर दमन’ में कहा गया कि इस तरह के प्रदर्शन आमतौर पर संसद के बाहर ही होते हैं। लेख के जरिए शिवसेना ने केंद्र सरकार से पूछा कि सरकार ने जेएनयू के छात्रों की मांगों को पूरा करने के लिए क्या कदम उठाए हैं।

प्रदर्शन कर रहे छात्रों को गरीब एवं मध्यम वर्ग का बताते हुए सामना में लिखा गया- “अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) जेएनयू अध्यक्ष पद पर अपना हक नहीं जमा सका इसलिए भाजपा जेएनयू में चल रहे प्रदर्शन को दबाने की कोशिश कर रही है।”

बता दें कि भाजपा और शिवसेना में महाराष्ट्र चुनाव नतीजों के बाद से ही तकरार कायम है और शिवसेना के एनसीपी-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की खबरों के बीच यह तकरार बढ़ती जा रही है।