समाचार
शिवसेना और एआईएमआईएम ने अमरावती नगर निगम चुनाव के लिए मिलाया हाथ

अमरावती नगर निगम में स्थायी समिति अध्यक्ष के चुनाव के लिए उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के साथ गठबंधन किया है।

टीवी 9 मराठी की रिपोर्ट के अनुसार, एक-दूसरे को पसंद ना करने वाले गठबंधन के कारण भाजपा की ओर से उद्धव ठाकरे की पार्टी को भारी आलोचना झेलनी पड़ी।

शिवसेना और एआईएमआईएम दोनों पहले भी एक-दूसरे के कट्टर प्रतिद्वंद्वी रहे हैं। इस तरह की स्थिति अब भी उनके राज्य और राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में नज़र आती है।

2019 में महाराष्ट्र में जब शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन की घोषणा की थी तो ओवैसी ने यह कहकर मज़ाक उड़ाया था कि पहले उन्हें निकाह (शादी) तो करने दें। उन्होंने इस गठबंधन का समर्थन करने से भी मना कर दिया था।

अमरावती में शिवसेना और एआईएमआईएम के बीच मौजूदा गठबंधन उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी को भौहें सिकोड़ने के लिए मजबूर कर सकता है, जो हाल ही में हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी मानी गई थी। उसने भी कई मौकों पर एआईएमआईएम की आलोचना की थी।

हालाँकि, शिवसेना ने अपने लंबे सहयोगी भाजपा के साथ संबंध तोड़ दिए और तब से कहा जाता है कि वह “धर्मनिरपेक्ष” हो गई है। उसने नागरिकता संसोधन अधिनियम (सीएए) जैसे प्रमुख मुद्दों पर भी अपनी असहमति जताई है।