समाचार
मनाली-कारगिल मार्ग पर दुनिया की सबसे लंबी-ऊँची शिंकुन ला सुरंग का काम तेज़

राष्ट्रीय राजमार्ग व अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड (एनएचआईडीसीएल) ने विश्व की सबसे लंबी ऊँचाई पर स्थित शिंकुन ला सुरंग (13.5 किमी) के विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) कार्य और केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख व हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति जिले में इससे जुड़े उपमार्गों पर निर्माण कार्य तेज़ी से शुरू कर दिया है।

इसकी जानकारी सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने बुधवार (23 सितंबर) को एक बयान में दी। मंत्रालय ने कहा, “इस सुरंग के पूरा होने पर मनाली-कारगिल राजमार्ग वर्षभर खुला रहेगा।”

यह विकास लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ तनाव के बीच आया है। मंत्रालय ने बयान में कहा कि सरकार केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख और हिमाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाने को प्राथमिकता दे रही है।

बयान में कहा गया, “पूरे वर्ष सड़क संपर्क और इसकी उपलब्धता में सुधार के एक समग्र दृष्टिकोण के क्रम में एनएचआईडीसीएल के प्रबंध निदेशक केके पाठक के नेतृत्व में विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के एक दल ने लेह से उत्तर और पदुम होते हुए शिंकुन ला सुरंग के उत्तर व दक्षिण क्षेत्रों के लिए सड़क मार्ग से प्रतिदिन लगभग 12 घंटे की यात्रा की। इस तरह उनकी दो दिनों तक की यात्रा रही।”

इस दौरान टीम ने शिंकुन ला सुरंग के उत्तर और दक्षिण मार्गों का दौरा किया। डीपीआर परामर्शकों द्वारा स्थल पर की जा रही भू-तकनीकी जाँच की विस्तृत समीक्षा की।

बयान में कहा गया है, “कार्यों के निरीक्षण के दौरान केके पाठक ने इन क्षेत्रों में परियोजना के काम में तेजी लाने पर ज़ोर दिया, ताकि सर्दियों के शुरू होने से पूर्व कार्य 15 अक्टूबर 2020 तक समाप्त किया जा सके। दरअसल, इसके बाद क्षेत्र में भारी बर्फबारी होती है।”