समाचार
“आतंकवाद के खिलाफ मोदी हैं मनमोहन से मज़बूत”- शीला दीक्षित, फिर दी सफाई

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस पार्टी से दिल्ली की प्रमुख शीला दीक्षित को एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा करते देखा गया। उन्होंने अपने बयान में कहा था कि 2008 में हुए ताज हमले के बाद मनमोहन सिंह की प्रतिक्रिया इतनी प्रभावशाली नहीं थी जितनी कि पुलवामा हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी की देखी गई। हालाँकि उन्होंने बाद में इसे मोदी का चुनावी खेल बताते हुए यह भी कहा कि मोदी सब कुछ राजनीति के लिए करते हैं।

टीवी चैनल सीएनएन-न्यूज़ 18 द्वारा गुरुवार को लिए गए एक इंटरव्यू में जब 2008 में हुए ताज हमले पर यूपीए की प्रतिक्रिया के बारे में पूछा तो शीला दीक्षित ने कहा, “हाँ मैं आपकी बात से सहमत हूँ कि मनमोहन सिंह उस समय इतने मज़बूत नहीं थे जितने कि आतंकवाद के खिलाफ मोदी हैं लेकिन मुझे यह आभास है कि वह ये सब राजनीति के लिए कर रहे हैं।”

बाद में शीला दीक्षित ने अपने बयान पर सफाई देने के लिए ट्विटर का सहारा लिया जहाँ उन्होंने बताया कि उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर बताया जा रहा है। उन्होंने ट्वीट किया, “कुछ लोगों को लगता है कि आतंकवाद के खिलाफ मोदी ज़्यादा मज़बूत हैं लेकिन मुझे यह सब महज़ एक चुनावी दाव लगता है।”

जहाँ शीला दीक्षित का लोकसभा चुनावों से पहले मोदी के लिए यह बयान कांग्रेस को उलझन में डाल सकता है वहीं ऐसे मौके पर अमित शाह ने भी ट्वीट कर शीला दीक्षित को धन्यवाद देते हुए कहा, “धन्यवाद शीला जी यह बात दोहराने के लिए जो बात पूरा देश जानता है लेकिन कांग्रेस इसे स्वीकार करने के लिए राज़ी नहीं है।”