समाचार
“कांग्रेस को उबारने के लिए नेतृत्व का मुद्दा हर कीमत पर हल होना जरूरी”- शशि थरूर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि पार्टी को फिर से खड़ा करने के लिए नेतृत्व का मुद्दा किसी भी कीमत पर हल करना ही होगा। अगर राहुल गांधी अध्यक्ष पद पर नहीं लौटते हैं तो पार्टी को आगे बढ़ाने के लिए सक्रिय और पूर्णकालिक नेतृत्व तलाशना होगा।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, एक साक्षात्कार में शशि थरूर ने पार्टी को सलाह देते हुए कहा, “लोगों में कांग्रेस की बिगड़ती स्थिति की धारणा को दूर करने के लिए नेतृत्व का मुद्दा प्राथमिकता से हल करना होगा। पार्टी को फिर से खड़ा करने के लिए दीर्घकालिक अध्यक्ष को लेकर अनिश्चितता का समाधान करना सबसे महत्वपूर्ण है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) के चुनाव से ऊर्जावान टीम बनेगी।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, “कांग्रेस की खराब स्थिति की वजह से दिल्ली में विधानसभा चुनाव के दौरान ज्यादातर मतदाता आम आदमी पार्टी (आप) में चले गए तो कुछ भाजपा में। ऐसे में कांग्रेस के हाथ शून्य लगा। भाजपा की विभाजनकारी नीतियों से निपटने के लिए जनता के पास एक मात्र विकल्प कांग्रेस है। यह चिंता की बात है कि लोगों में यह धारणा बढ़ती जा रही है कि बतौर राजनीतिक निकाय हम डांवाडोल हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “कांग्रेस प्रमुख के रूप में राहुल गांधी लौटना चाहते हैं या नहीं, यह उन पर निर्भर करता है। अगर वह अपना पिछला रुख नहीं बदलते हैं तो ऐसे में पार्टी के लिए सक्रिय और पूर्णकालिक नेतृत्व तलाशने की जरूरत है, ताकि पार्टी आगे बढ़ सके जैसा कि राष्ट्र कांग्रेस से अपेक्षा करता है।”