समाचार
“नरेंद्र मोदी ने साथ काम करने का प्रस्ताव दिया था पर मैंने ठुकरा दिया”- शरद पवार

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में नई सरकार बनने से पहले चल रही उठापटक को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया था लेकिन उन्होंने उसे ठुकरा दिया था।” हालाँकि, उन्होंने यह भी माना कि उनके प्रधानमंत्री से निजी संबंध बहुत अच्छे हैं और वो हमेशा रहेंगे।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, एक मराठी चैनल को दिए साक्षात्कार में शरद पवार ने ऐसी खबरों को खारिज कर दिया था, जिसमें नरेंद्र मोदी सरकार ने उन्हें देश का राष्ट्रपति बनने का प्रस्ताव दिया था। उन्होंने कहा, “मोदी नेतृत्व वाली कैबिनेट से सुप्रिया सुले को मंत्री बनाने का प्रस्ताव जरूर मिला था।” सुप्रिया, शरद पवार की बेटी हैं और पुणे जिला में बारामती से लोकसभा सदस्य हैं।

उन्होंने अजित पवार को लेकर कहा, “मुझे जब पता चला कि अजित, फडणवीस का समर्थन कर रहे हैं तो मैंने पहले उद्धव ठाकरे से संपर्क किया। मैंने उनको आश्वस्त किया कि जो हुआ वो गलत है। मैं अजित की बगावत को कुचल दूँगा। जब एनसीपी विधायकों को पता चला कि अजित के इस कदम के पीछे मेरा हाथ नहीं है तो जो भी 5-10 विधायक उनके साथ थे, वे दबाव में आ गए।”

एनसीपी प्रमुख ने आगे कहा, “अजित के इस तरह भाजपा के समर्थन करने के निर्णय से परिवार में कोई भी खुश नहीं था। सभी को लगता था कि उन्होंने गलत कदम उठाया है। मैंने भी अजित को बताया कि उनके इस कदम को माफ नहीं किया जा सकता। कोई भी ऐसा करता तो उसे नतीजा भुगतना पड़ता और वह कोई अपवाद नहीं हैं।”