समाचार
शापूरजी पालोंजी ग्रुप ने सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास के लिए सबसे कम बोली लगाई

दिल्ली में सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास और पुनर्गठन के लिए शापूरजी पालोंजी ग्रुप सबसे कम बोली लगाने वाली कंपनी के रूप में सामने आई है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास में राजपथ शामिल है, जो राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक जाता है। इसमें भूमिगत पास का निर्माण, बिजली व यांत्रिक कार्य, हरित क्षेत्रों का भू-निर्माण, बड़े पैमाने पर पत्थर का काम है, जिसमें उनके संचालन और रखरखाव के लिए पाँच वर्ष शामिल हैं।

इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी शापूरजी पालोंजी एंड कंपनी लिमिटेड ने परियोजना की अनुमानित लागत 502 करोड़ रुपये की से लगभग 5 प्रतिशत कम 477 करोड़ रुपये की बोली लगाई।

टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड ने 488 करोड़ रुपये की दूसरी सबसे कम बोली लगाई। इसके बाद आईटीडी सीमेंटेशन ने 490 करोड़ रुपये और एनसीसी लिमिटेड ने 601 करोड़ रुपये की बोली लगाई।

सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास का काम एक वर्ष के भीतर पूरा होने की उम्मीद की जा रही है क्योंकि निविदा के लिए परियोजना को 300 दिनों में पूरा करने की आवश्यकता है। 15 दिनों के भीतर चयनित कंपनी को अधिनिर्णय पत्र दिया जा सकता है।

एवेन्यू का पुनर्विकास 13,000 करोड़ रुपये की सेंट्रल विस्टा परियोजना का हिस्सा है। इसमें सभी सरकारी मंत्रालयों को घर देने के लिए 11 प्रशासनिक भवनों के साथ एक सामान्य त्रिकोणीय संसद भवन, एक सामान्य केंद्रीय सचिवालय के निर्माण की योजना है।

इस परियोजना में एक नया प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और नए उपराष्ट्रपति के आवास का निर्माण भी शामिल है।