समाचार
शाहीन बाग- दो महीने बाद खोला गया नोएडा से फरीदाबाद और जैतपुर जाने का रास्ता

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में चल रहे धरने की वजह से बंद नोएडा से फरीदाबाद और जैतपुर जाने का रास्ता दो महीने बाद खोल दिया गया है। पुलिस ने शुक्रवार सुबह रास्ते से बैरिकेडिंग हटा दी हैं। हालाँकि, अब भी कालिंदीकुंज वाला रास्ता बंद है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सुबह ओखला पक्षी अभयारण्य के पास बैरिकेंडिग को हटा दिया गया। इसके बाद बदरपुर जाने वाले लोगों को राहत मिली। बीते दिनों से राहगीरों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था। फरीदाबाद जाने के लिए लोगों को डीएनडी के जरिए आश्रम होते हुए कई किमी घूमकर जाना पड़ रहा था।

लोगों का कहना है कि नोएडा पुलिस को यह रास्ता बंद करने की जरूरत ही नहीं थी क्योंकि प्रदर्शनकारी वहाँ से काफी दूर हैं। उधर, शाहीन बाग से कालिंदी कुंज की तरफ की रोड नंबर 13A अब भी बंद है। इस रास्ते पर प्रदर्शनकारी भीड़ जमाकर बैठे हुए हैं। इसके कारण नोएडा की तरफ से करीब 500 मीटर पहले ही रास्ता बंद कर दिया गया है।

प्रदर्शन की वजह से बंद रास्ते को खुलवाने के लिए सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया गया था। न्यायालय ने प्रदर्शनकारियों को समझाने के लिए तीन सदस्यीय टीम गठित कर भेजी। इसमें वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन के अलावा देश के पहले मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह शामिल हैं।

वार्ताकारों ने बुधवार और गुरुवार को शाहीन बाग जाकर प्रदर्शनकारियों को दूसरी जगह स्थानांतरित करने के लिए समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने। इस बीच ओखला पक्षी विहार के पास लगी बैरिकेडिंग हटा ली गई।