समाचार
न्यायालय ने दिया सिरदर्द का इलाज, सैरिडोन समेत अन्य दवाइयों पर रोक नहीं
सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार (18 फरवरी) को सैरिडौन समेत प्रिट्रान और डार्ट ड्रग्स पर केंद्र सरकार द्वारा लगाई गई रोक को हटा दिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने यह फैसला दवाई निर्माताओं की याचिका को मद्दे नजर रखते हुए किया है साथ ही सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को नोटिस भी जारी किया है। सर्वोच्च न्यायालय के ऑर्डर के बाद अब ये दवाइयां बाज़ार में बिकने लगेंगी।
एनडीटीवी इंडिया की खबर के अनुसार केन्द्र सरकार ने पिछले वर्ष 328 फिक्स डोज दवाइयों पर रोक लगाई थी जिनमें ये तीन भी शामिल थी लेकिन अब सर्वोच्च न्यायालय ने इनपर से प्रतिबंध हटा दिया है।
भारत समेत कई और देशों में भी इन दवाइयों पर रोक लगी हुई है क्यूंकी बताया जाता है कि ये दवाई तीन दवाओं के साल्ट से मिलकर बनती है जो शरीर के लिए हानिकारक भी हो सकती है, देश के स्वास्थ्य संगठन काफी समय से इनका विरोध कर रहे हैं, उनका कहना है कि इन दवाइयों से मरीज को किसी भी प्रकार की एलर्जी हो सकती है जिसके बारे में पता लगाना भी मुश्किल होता है, ऐसे में मरीज के इलाज में देरी हो सकती है।