समाचार
सर्वोच्च न्यायालय ने निर्भया मामले में आरोपी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज की
आईएएनएस - 18th December 2019

बुधवार (18 दिसंबर) को सर्वोच्च न्यायालय ने निर्भया मामले में चार आरोपियों में से एक अक्षय कुमार सिंह की मौत की सजा पर दायर पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी है। निर्भया के बलात्कार और हत्या के आरोपी इन चारों लड़कों को मौत की सजा सुनाई जा चुकी है।

जज आर बनुमथी की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि अक्षय की पुनर्विचार याचिका अन्य दोषियों द्वारा दायर याचिकाओं के समान थी, जिसे उच्चतम न्यायालय ने साल 2018 में खारिज कर दिया था। “हमें सजा की समीक्षा के लिए कोई आधार नहीं मिला।”, न्यायालय ने कहा।

जज आर बनुमथी ने कहा कि बेंच ने यचिका के आधार पर विचार किया है जिसमें याचिकाकर्ता सबूतों पर प्रश्न खड़ा करने के लिए कह रहा है और न्यायालय कभी भी इसकी मंजूरी नहीं दे सकता।

“इन आधारों पर पहले भी विचार किया गया था। इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती। इन सभी का परीक्षण निचली अदालत, उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में किया गया है।”, न्यायालय ने कहा।

जज बनुमथी ने कहा कि न्यायालय ने निर्भया मामले की समीक्षा क्षेत्राधिकार के मापदंडों के तहत की है और ये मामले की पुनः सुनवाई नहीं है।

न्यायालय ने कहा, “उनके द्वारा उठाए गए जाँच के आधार और खामियों को पहले खारिज कर दिया गया था (तीन अन्य आरोपियों की समीक्षा याचिकाओं की अस्वीकृति का उल्लेख करते हुए)।”

अक्षय के वकील ने न्यायालय के सामने कहा कि उसका मुवक्किल राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका दायर करना चाहता है, और उसने तीन सप्ताह का समय मांगा है।

केंद्र के वकील ने कहा कि दया याचिका के लिए निर्धारित समय सीमा केवल एक सप्ताह की है। सर्वोच्च न्यायालय ने राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका दायर करने की समय सीमा पर आदेश पारित करने से इनकार कर दिया है।

(इस समाचार को वायर न्यूज़ फ़ीड की सहायता से प्रकाशित किया गया है।)