समाचार
ओपेक व सहयोगी देशों ने मई से धीरे-धीरे तेल उत्पादन बढ़ाने पर जताई सहमति

तेल निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक), रूस और सहयोगी देश, जो सामूहिक रूप से ओपेक प्लस के रूप में जाने जाते हैं, उन्होंने मई से तेल उत्पादन में कटौती को धीरे-धीरे कम करने का निर्णय लिया है।

हिंदुस्तान टाइम्स को रिपोर्ट के अनुसार, ओपेक प्लस समूह का यह निर्णय महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कोविड-19 के मद्देनज़र कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बाद से तेल उत्पादन में कटौती कर रहा था। कथित तौर पर यह विकास अमेरिकी प्रशासन की ओर से सऊदी अरब के अधिकारियों से वार्ता करने और ऊर्जा की कीमतों को कम करने के लिए कहने के बाद आया है।

ओपेक प्लस ने मई में 3.5 लाख बैरल प्रति दिन (बीपीडी) उत्पादन बढ़ाने का निर्णय लिया है। जून में यह 3.5 लाख बीपीडी रहेगा। उसके बाद जुलाई में 4 लाख बीपीडी तक कर दिया जाएगा।

अकेले सऊदी अरब धीरे-धीरे खुद से 10 लाख बैरल प्रतिदिन अतिरिक्त उत्पादन की बहाली करेगा। फिलहाल, मई में उत्पादन में 2.5 लाख बीपीडी, जून में 3.5 लाख बीपीडी और फिर जुलाई में 4 लाख बीपीडी करेगा।

हालाँकि, यह गौर किया जाना चाहिए कि सऊदी के ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलअजीज बिन सलमान ने कहा है कि इस निर्णय का अमेरिकी अधिकारियों के साथ किसी भी वार्ता से कोई प्रभाव नहीं पड़ा है।