समाचार
बायोटेक व आईसीएमआर की कोविड-19 वैक्सीन के शुरुआती चरण में सकारात्मक संकेत

भारत बायोटेक के कोरोनावायरस वैक्सीन के पहले चरण के प्रारंभिक परिणाम दर्शाते हैं कि वह सुरक्षित है। इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) साथ मिलकर कोविड-19 के लिए कोविक्सिन नाम की वैक्सीन विकसित कर रहे हैं।

इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान में देश में 12 स्थानों के 375 लोगों पर वैक्सीन का परीक्षण जारी है। प्रत्येक को वैक्सीन की दो खुराकें मिली हैं।

मुख्य जाँचकर्ताओं में से एक ने ईटी से कहा, “हमने किसी जगह पर किसी भी व्यक्ति, जिसने वैक्सीन की खुराक ली पर इसका कोई हानिकारक प्रभाव नहीं देखा है।”

दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एआईआईएमएस) की टीम दूसरी खुराक देने की तैयारी कर रही है। अब तक कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा गया है। एम्स में वैक्सीन के परीक्षणों में 16 लोग स्वेच्छा से सम्मिलित हुए हैं।

ईटी ने एक अनाम अन्वेषक के हवाले से कहा है कि अगर सब कुछ योजना के अनुसार हो जाता है तो वैक्सीन अगले साल की पहली छमाही तक बाज़ार में उपलब्ध हो सकती है।