समाचार
साधुओं के लिए सीबीआई जाँच की माँग कर साध्वी ने पालघर में धर्मांतरण पर उठाया प्रश्न

महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर की भीड़ द्वारा की गई हत्या के मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने सीबीआई और एनआईए जाँच की माँग की है।

भोपाल की सांसद ने शून्यकाल के दौरान यह कहते हुए मुद्दा उठाया कि दो साधुओं की भीड़ द्वारा की गई हत्या ने उन्हें गहरी पीड़ा पहुँचाई है। साधुओं को महज़ इसलिए मार दिया गया क्योंकि वे हिंदू थे, सनातनी थे और भगवा वस्त्र पहने थे, उन्होंने कहा।

एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “रिपोर्ट में कहा गया कि इन संतों का बस इतना दोष था कि वे हिंदू थे, सनातनी थे, भगवादारी थे। इस पूरी घटना के पीछे बड़ी साजिश थी।” महाराज कल्पवृक्षगिरी, सुशीलगिरी महाराज और उनके ड्राइवर जूना अखाड़े का प्रतिनिधित्व करते थे, जहाँ से वह आती हैं।

उन्होंने ओम बिरला को संबोधित करते हुए कहा, “महाराज मैं पीड़ित हूँ। महोदय, मैं आपका ध्यान आकृष्ट करना चाहती हूँ कि आखिर ये सब हुआ कैसे?” उन्होंने मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों की भूमिका पर सवाल उठाए। साध्वी ने लोगों को गुमराह करने में क्षेत्री की सीपीआई (एम) की भूमिका होने का भी आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, “इस स्थान का पुराना इतिहास है। ये एक साजिश है। इस क्षेत्र में धर्मांतरण में राजनीतिक संगठन की भूमिका अहम रहती है।” सांसद ने यह भी आरोप लगाया कि राजनीतिक संगठन सीएए और एनआरसी का विरोध करने के लिए बाहर से लोगों को लाए थे।