समाचार
50 से कम आयु की दो महिलाओं के प्रवेश के बाद सबरीमाला पुण्याहम के लिए बंद

सबरीमाला अयप्पा मंदिर को पुण्याहम (शुद्धिकरण) के लिए बंद कर दिया गया जब आज (2 जनवरी को) सूर्योदय से पूर्व 50 वर्ष से कम आयु की दो महिलाएँ मंदिर में प्रवेश करने में सफल हो गईं, हिंदुस्तान टाइम्स  ने रिपोर्ट किया।

सामान्यतः दोपहर 1 बजे मंदिर के पट बंद किए जाते हैं लेकिन आज पुजारियों ने 10:30 बजे ही द्वार बंद कर दिए। रिपोर्ट के अनुसार जो भक्त दर्शन के लिए आए थे, उन्हें अब बाहर ही प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। 10:30 से 11:30 तक शुद्धि संस्कार किए गए।

मंदिर में प्रवेश करने वाली दो महिलाओं को बिंदू और कनकदुर्गा के रूप में पहचाना गया, जिनकी उम्र 40 वर्ष के आसपास है। सोशल मीडिया पर उनके प्रवेश का एक वीडियो वायरल हो गया है।

केरल मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने भी उनके प्रवेश की पुष्टि की और कहा कि पुलिस सुरक्षा के साथ उन्हें भीतर ले जाया गया। कथित तौर पर उन्होंने उत्तर दिशा में स्थित द्वार से प्रातः 3:45 पर प्रवेश किया। रिपोर्ट में बिंदू ने बताया कि प्रवेश के लिए उसने 18 पवित्र सीढ़ियों का प्रयोग नहीं किया।

केरल भाजपा ईकाई ने इस कृत्य की निंदा करते हुए इसे केरल का काला दिवस कहा है। 28 सितंबर को सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद पहली बार कोई महिला मंदिर में प्रवेश कर पाई है।

इससे पहले भी कम्युनिस्ट केरल सरकार और पुलिस की सहायता से कई एक्टिविस्ट महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश प्रयास किया था, हालाँकि उन्हें सफलता नहीं मिल पाई थी।