समाचार
रूस ने स्पुतनिक-वी कोविड-19 वैक्सीन को लेकर भारत के साथ साझा की जानकारी

अंतर-राष्ट्रीय मेडिकल जर्नल लैंसेट ने स्पुतनिक-वी नामक रूसी कोविड-19 वैक्सीन के चरण -1 और चरण-2 के नैदानिक ​​परीक्षणों के परिणामों को प्रकाशित किया था। अब मॉस्को के अधिकारियों ने भारतीय समकक्षों को वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभाव पर व्यापक डाटा प्रस्तुत किया है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, यह विकास तब आता है, जब भारत ने मॉस्को स्थित गामलेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी से डाटा मांगा था। यह भी गौर किया जाना चाहिए कि व्यापक डाटा ऐसे समय साझा हुआ है, जब रूस विभिन्न देशों में स्पुतनिक-वी के चरण-3 के नैदानिक ​​परीक्षण आयोजित करने की योजना बना रहा है। इसमें सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) शामिल हैं।

रूस ने पहले भी उल्लेख किया था कि भारत सहित कम से कम 20 देशों ने स्पुतनिक-वी के टीके प्राप्त करने में रुचि दिखाई है। वैक्सीन को लेकर अनुबंध रूस के भारतीय राजदूत डीबी वेंकटेश वर्मा और रेणू स्वरूप द्वारा समन्वित की जा रही है, जो जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव हैं।

यह भी गौर किया जाना चाहिए कि लैंसेट जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि स्पुतनिक-वी टीका अत्यधिक प्रतिरक्षात्मक है। इसने 100 प्रतिशत स्वस्थ वयस्क स्वयंसेवकों में जीवकोशीय प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को बढ़ाया ही है।