समाचार
ईएईयू में भारत को शामिल करने हेतु रूस तीसरे देश की साझेदारी बढ़ा रहा

रूस भारत को यूरेशियन आर्थिक संघ (ईएईयू) में शामिल करने पर जोर दे रहा है, यह एक ऐसा कदम है जो मध्य एशिया-यूरेशियन क्षेत्रों में तीसरे देश की साझेदारी के अवसर खोलेगा।

इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार रूस द्वारा भारत को ईएईयू समूह में शामिल करने का कदम उसके विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की इस महीने के अंत में होने वाली भारत यात्रा से कुछ ही दिन पहले ही सामने आया है।

रिपोर्टों के अनुसार, ईएईयू ने पहले से ही सर्बिया और सिंगापुर के साथ मुफ्त व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर करते हुए, विदेशी भागीदारी की अपनी सीमा का विस्तार करना शुरू कर दिया है। इसके अतिरिक्त, यह 2019-2020 में यूरेशियन आर्थिक आयोग और आसियान के बीच सहयोग के एक कार्यक्रम को भी लागू कर रहा है।

रूसी विदेश मंत्रालय के अनुसार, ईएईयू पहले ही भारत के साथ एक तरजीही व्यापार समझौते के प्रारूपण पर बातचीत करने का निर्णय ले चुका है।

गौरतलब है कि रूस ने यह निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पिछले वर्ष रूस के व्लादिवोस्तोक क्षेत्र की यात्रा के बाद लिया है, जहाँ उन्होंने मध्य एशिया, अफ्रीका और दक्षिण पूर्व एशिया में भारतीय-रूसी तीसरे देश की साझेदारी को प्रोत्साहित किया था।