समाचार
आरएसएस का पहला आर्मी विद्यालय बुलंदशहर में, सेनाधिकारी बनाने के लिए होगी शिक्षा

अगले वर्ष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) एक आर्मी विद्यालय खोलने की तैयारी में है। इसमें बच्चों को सेना में अधिकारी बनाने के लिए शिक्षित किया जाएगा।

द इकॉनमिक टाइम्स  की रिपोर्ट के अनुसार, विद्यालय चलाने की ज़िम्मेदारी आरएसएस की शिक्षा शाखा विद्या भारती के हाथ में होगी। पूर्व आरएसएस सरसंघचालक राजेंद्र सिंह उर्फ रज्‍जू भैया के नाम पर इसका नाम रज्‍जू भैया सैनिक विद्या मंदिर रखा जाएगा।

आर्मी विद्यालय उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में खोला जाएगा, जहाँ 1922 में रज्जू भइया का जन्म हुआ था। विद्यालय का निर्माण शुरू हो चुका है। अगले साल पढ़ाई शुरू हो जाएगी, जिसमें सीबीएसई बोर्ड का सिलेबस पढ़ाया जाएगा। विद्यालय में कक्षा 6 से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थी शिक्षित होंगे।

विद्या भारती उच्‍च शिक्षा संस्‍थान के पश्चिमी यूपी और उत्‍तराखंड के संयोजक अजय गोयल ने बताया, “यह आरएसएस का पहला कदम है। अगर यह सफल रहा तो भविष्य में देश के दूसरे हिस्सों में भी ऐसे विद्यालय खोले जाएँगे। वर्तमान में देश में 20,000 से ज्यादा विद्या भारती विद्यालय चल रहे हैं।”

प्रवेश की प्रक्रिया अगले महीने से शुरू होगी। पहले 6वीं कक्षा के लिए 160 बच्चों का प्रवेश होगा। इसमें 56 सीटें शहीद सैनिकों के बच्चों के लिए आरक्षित की जाएँगीं। इस स्कूल को बनाने में करीब 40 करोड़ का खर्चा आएगा।

आरएसस को यह ज़मीन एक पूर्व सैनिक और किसान राजपल सिंह ने दान की थी। विद्यालय की तीन मंजिला इमारत बनेगी, जिसमें एक हॉस्‍टल, एक डिस्‍पेंसरी, स्‍टाफ के लिए आवास और एक बड़ा स्‍टेडियम होगा।