समाचार
अग्रिम जमानत पर रॉबर्ट वाड्रा को दिल्ली विशेष न्यायालय ने दी विदेश जाने की अनुमति

दिल्ली के एक विशेष न्यायालय ने रॉबर्ट वाड्रा के आवेदन पर अपना आदेश सुरक्षित रखते हुए उन्हें चिकित्सा उपचार और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए विदेश यात्रा करने की अनुमति दे दी। वर्तमान में वह मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में अग्रिम जमानत पर हैं।

डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने न्यायालय से कहा, “वाड्रा, जो आज उड़ान भरने वाले हैं, ने अंतिम समय में ईडी के विवरणों को सत्यापित करने के लिए अपर्याप्त समय देते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया है।” इस पर रॉबर्ट वाड्रा के वकील केटीएस तुलसी ने कहा, “उनके मुवक्किल ने हमेशा कानून के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय का सहयोग किया है।”

इससे पूर्व विशेष न्यायालय के न्यायाधीश अरविंद कुमार ने रॉबर्ट वाड्रा के आवेदन पर प्रवर्तन निदेशालय की प्रतिक्रिया मांगी थी, जो चिकित्सा उपचार और व्यावसायिक उद्देश्य के लिए विदेश यात्रा करना चाहते हैं। वाड्रा के वकील ने अदालत को सूचित किया कि मेरे मुवक्किल को चिकित्सा उपचार और व्यावसायिक उद्देश्य के लिए स्पेन की यात्रा करनी है। उनकी हालिया चिकित्सा जाँच में एक नई जटिलता सामने आई है, जिसके उपचार की बहुत ज़रूरत है।

वाड्रा के वकील ने आरोपों का खंडन करते हुए तर्क दिया कि उनके मुवक्किल को जब भी तलब किया गया, उन्होंने जाँच में पूरा सहयोग दिया। आरोपों को कुबूल नहीं करने का यह मतलब नहीं कि वह सहयोग नहीं कर रहे हैं। किसी भी सबूत के साथ छेड़छाड़ की कोई आशंका नहीं है क्योंकि पहले ही उन दस्तावेजों को जाँच एजेंसी ने जब्त कर लिया है।

उन्होंने कहा, “प्रवर्तन निदेशालय के पास लगाए गए आरोपों को साबित करने के लिए कोई सुबूत नहीं हैं। वाड्रा की भारत के बाहर कोई संपत्ति नहीं है और न ही यहाँ से बाहर किसी भी संपत्ति पर उनका कोई लाभकारी स्वामित्व है।”