समाचार
राम मंदिर आंदोलन में बलिदान देने वाले कोठारी बंधुओं के नाम पर होगी अयोध्या में सड़क

राम मंदिर आंदोलन के दौरान पुलिस की गोलीबारी में मारे गए दो भाइयों राम कुमार कोठारी और शरद कुमार कोठारी के नाम पर अयोध्या में एक नई सड़क का निर्माण किया जाएगा। यह घोषणा उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने की।

अक्टूबर 1990 में कोठारी बंधु कार सेवा में भाग लेने के लिए कोलकाता से अयोध्या आए थे। कारसेवा के दौरान पुलिस की गोलीबारी में वे मारे गए थे। राम जब मारे गए थे, तब उनकी उम्र 23 वर्ष और शरद सिर्फ 20 वर्ष के थे। उनकी मृत्यु के बाद दोनों भाइयों को रामजन्मभूमि आंदोलन के नायकों और शहीदों के रूप में सम्मानित किया गया।

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, केशव प्रसाद मौर्य ने घोषणा की कि कोठारी भाइयों की याद में एक मार्ग का निर्माण किया जाएगा। पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा नेताओं ने अयोध्या में राम मंदिर के लिए आंदोलन करते हुए कोठारी भाइयों के बलिदान के बारे में राज्य के मतदाताओं को बार-बार याद दिलाया।

यह गौर किया जाना चाहिए कि राज्य में भाजपा नेताओं की चुनावी सभाओं में कोठारी बंधुओं की बहन पूर्णिमा कोठारी ने हिस्सा लिया और अपने भाइयों के बलिदान को याद किया। उन्होंने राम मंदिर के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी धन्यवाद दिया।

बता दें कि गत वर्ष राम मंदिर के भूमि पूजन के दौरान इन दोनों कारसेवकों के परिवार के सदस्यों को कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था।