समाचार
राजद के घोषणा पत्र में निजी क्षेत्र में आरक्षण और ताड़ी को वैध करने की बात

लोकसभा चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। पार्टी ने इसे ‘प्रतिबद्धता पत्र’ नाम दिया है। इसमें निजी क्षेत्र में आरक्षण लागू करने और मंडल कमीशन के मुताबिक आरक्षण देने की बात कही है।

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, घोषणा पत्र को पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने जारी किया। इस दौरान राज्यसभा सांसद मनोज झा और वरिष्ठ नेता रामचंद्र पूर्वे मौजूद रहे। तेजस्वी यादव ने कहा कि अगर केंद्र में उनकी सहभागिता होती है तो 2020-21 में एक जातिगत जनगणना करवाई जाएगी। दलितों-पिछड़ों को जनसंख्या के आधार पर आरक्षण दिया जाएगा और प्रवासी बिहारियों के लिए हेल्प लाइन जारी की जाएगी।

प्रतिबद्धता पत्र में कांग्रेस की न्यूनतम आय गारंटी योजना का समर्थन किया गया है, जिसके तहत पार्टी ने भारत में 20 प्रतिशत गरीब परिवारों को प्रति वर्ष 72,000 रुपये देने का वादा किया है। राजद के अन्य वादों में ताड़ी को वैध बनाना, शिक्षा पर छह प्रतिशत जीडीपी खर्च और स्वास्थ्य पर चार प्रतिशत खर्च शामिल है। इसके अलावा, राजद ने हर थाली में रोटी और हर हाथ में काम, पुलिस भर्ती में आठवीं पास की योग्यता, राज्य में खाली पड़े पदों को जल्द भरने, 200 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को संवैधानिक मान्यता देने जैसे वादे भी किए हैं।

राजद बिहार की 19 लोकसभा सीटों पर चुनाव लडे़गी, जबकि कांग्रेस नौ सीटों पर चुनाव लड़ेगी। शेष 11 सीटों में से पांच पर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी), तीन पर विकासशील इनसान पार्टी (वीआईपी), तीन पर हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हाम) और एक पर सीपीआई (एमएल) लिबरेशन चुनाव लड़ेगी।