समाचार
राजस्थान कांग्रेस की रिसॉर्ट राजनीति, बैठक में बागियों को दंडित करने का निर्णय

जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक के तुरंत बाद राजस्थान कांग्रेस विधायकों को दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर स्थित फेयरमोंट रिसॉर्ट भेज दिया गया था। बैठक में पार्टी विरोधी तत्वों को दंडित करने की मांग को लेकर एक प्रस्ताव भी पारित किया गया।

फेयरमोंट वही होटल है, जिस पर सोमवार को छापा मारा गया था। रविवार को उप-मुख्यमंत्री सचिन पालयट ने बागी तेवर दिखाते हुए घोषणा कर दी थी कि गहलोत सरकार अल्पमत में है। इसके बाद बिना किसी तरह का खतरा लेते हुए मुख्यमंत्री आवास के बाहर चार बसें खड़ी की गईं, जो विधायकों को सीधे होटल तक ले गईं।

हालाँकि, बैठक के बाद पायलट के दावों को दरकिनार करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री ने बहुमत दिखाया और 100 से अधिक विधायकों के साथ खड़े होकर अपनी जीत की ओर इशारा किया। पार्टी ने सीएलपी की बैठक के बाद भाजपा के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया और कहा कि इस तरह लोकतंत्र को मारने के प्रयासों की हम कड़ी निंदा करते हैं।

बैठक में निवेदन किया गया कि जो पदाधिकारी या विधायक दल का सदस्य पार्टी के खिलाफ गतिविधियों में लिप्त हो या किसी साजिश में शामिल हो, उसके खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। इससे पूर्व, सभी विधायकों को बैठक में भाग लेने के लिए एक अनुदेश जारी किया गया था। हालाँकि, पायलट और 18 विधायक बैठक से गायब रहे थे।