समाचार
उत्तर प्रदेश में सिख जाटों और मुस्लिमों को मिलेगा ओबीसी का दर्जा- बलदेव सिंह

उत्तरप्रदेश सरकार ने राज्य के मूल निवासी मुस्लिम तथा सिख जाटों को आरक्षण देने हेतु आदेश जारी कर दिया है, लाइव हिंदुस्तान  ने बताया। प्रदेश में अभी तक केवल जाटों को ही अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) का आरक्षण लाभ मिलता रहा है लेकिन अब मुस्लिम तथा सिख जाट समुदायों को भी इसमें शामिल कर लिया गया है।

चुनाव के पहले  प्रदेश के 40 लाख मुस्लिम तथा सिख जाटों का समर्थन हासिल करने का यह एक बड़ा कदम माना जा रहा है।
राज्य सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, बलदेव सिंह औलख ने 5 दिसंबर को पत्रकारों के बीच यह बात कही तथा शासन के आदेश की प्रतियाँ दी गई। उन्होंने कहा, ” प्रदेश के सिख जाटों और मुस्लिम को अब ओबीसी का लाभ मिलने लगेगा। उत्तर प्रदेश में लाखों सिख जाट और मुस्लिम रहते हैं, यह वर्ष 1999-2000 से जाटों की तरह ही पिछड़ी जाति के आरक्षण के लाभ के लिए संघर्षरत थे।”
इस संदर्भ में इन समुदायों को ओबीसी के अंतर्गत जाति प्रमाण पत्र जारी करने का आदेश प्रदेश सरकार ने मंडलायुक्तों को जारी कर दिया है।

ध्यान देने योग्य बात है कि वर्ष 2017 के चुनावों के समय भी अखिलेश सरकार मुस्लिमों को 13.5 फीसदी आरक्षण देने की कवायद में जुट गई थी। उस समय इसे 2012 के आरक्षण संबंधी चुनावी वादे को पूरा करने का कदम बताया गया था।