समाचार
आरबीआई ने नकदी की कमी पर यस बैंक को 50 करोड़ रुपये के कर्ज लेने की सुविधा दी

यस बैंक को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पर्याप्त नकदी सुनिश्चित कराने के लिए 60 हजार करोड़ रुपये के कर्ज लेने की सुविधा प्रदान की है। इससे बैंक को जमाकर्ताओं के प्रति अपनी बाध्यताओं को पूरा करने में मदद मिलेगी।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, पुनर्गठित यस बैंक के नामित एमडी और सीईओ प्रशांत कुमार ने कहा, “बैंक के पास पर्याप्त तरलता मौजूद है। बाह्य स्रोतों पर निर्भर रहने की कोई ज़रूरत नहीं है।”

बता दें कि आरबीआई अधिनियम 1934 की धारा 17 के तहत केंद्रीय बैंक कर्ज व शेयर, फंड व प्रतिभूतियों (अचल संपत्तियों से इतर) को गिरवी रखकर अग्रिम के रूप में किसी भी बैंक को तरलता उपलब्ध करा सकता है।

संकट से जूझ रहे यस बैंक ने गुरुवार (19 मार्च) को पुरी जगन्नाथ मंदिर का पैसा लौटा दिया। बैंक ने कहा, “उसने ओडिशा के पुरी स्थित श्रीजगन्नाथ मंदिर प्रशासन के 389 करोड़ रुपये की एफडी एसबीआई के खाते में स्थानांतरित कर दी है। मंदिर को एफडी खाते पर 8.23 करोड़ रुपये का ब्याज भी मिला।”

बैंक ने मंदिर के मुख्य प्रशासक कृष्ण कुमार को लिखे खत में कहा है कि उसके पास 156 करोड़ रुपये से अधिक की दो और एफडी हैं, जिसे वह इस महीने के अंत में स्थानांतरित कर देगा।