समाचार
छत्तीसगढ़ सरकार राम वन गमन पथ की प्रमुख जगहों पर पर्यटन स्थल विकसित करेगी

छत्तीसगढ़ सरकार ने घोषणा की है कि 14 साल के वनवास के दौरान भगवान रामचंद्र जिन-जिन मार्गों से गुज़रे थे यानी राम वन गमन पथ के प्रमुख स्थानों को पर्यटक स्थलों के रूप में विकसित किया जाएगा।

टाइम्स ऑफ इंडिया  के अनुसार छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल बैठक में इस निर्णय को मंज़ूरी मिली। मंत्रिमंडल की बैठक में पर्यटन स्थलों के विकास एवं सर्वेक्षण के लिए चार सदस्यों वाली समिति बनाने का भी निर्णय लिया गया।

आधिकारिक खोज के अनुसार भगवान राम छत्तीसगढ़ के 75 स्थानों से होकर गुजरे थे और 75 में से 51 स्थानों पर वे रहे भी थे। खबरों के अनुसार कोरिया जिले में सीतामढ़ी-हरचिका, सरगुजा जिले में रामगढ़, जांजगीर-चांपा जिले में शिवरीनारायण, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के तुरतुरिया, रायपुर जिले के चंदखुरी, गरियाबंंद जिले के राजिम, धमतरी जिले में सिहावा (सप्त ऋषि आश्रम) और बस्तर जिले में जगदलपुर वो आठ स्थान है जिन्हें पहले चरण में पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।