समाचार
“पीएम केयर फंड से राजस्थान भेजे वेंटिलेटर निजी अस्पतालों को दिए”- राज्यवर्धन सिंह

जयपुर ग्रामीण सांसद कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने अशोक गहलोत सरकार पर गंभीर आरोप लगाए कि पीएम केयर फंड से राजस्थान को दिए गए वेंटिलेटर डिब्बे में बंद पड़े हैं या फिर निजी अस्पतालों को किराए पर दे दिए गए हैं।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने एक वीडियो जारी करते हुए कहा, “आपदा के समय पर राजनीति करना सही नहीं है। दिनदहाड़े कोरोना से संक्रमित मरीज़ों को लूटा जा रहा हो और आप व हम आँखें बंद कर लें तो यह नाइंसाफी होगी।”

उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के हर जिले को वेंटिलेटर भिजवाए, जो गरीब मरीजों की जान बचाने के उपयोग में आने थे। भरतपुर में भेजे गए 10 वेंटिलेटर सरकारी बहादुर अस्पताल में उपयोग नहीं हो रहे हैं। उन्हें एक निजी अस्पताल को 2000 रुपये प्रतिदिन किराए पर दे दिए गए हैं।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, “इनसे गरीबों की निःशुल्क जान बचाई जानी थी लेकिन अब मरीज 50,000 रुपये देकर अपनी जान बचा रहे हैं। कोटपूथली में लोग मर रहे हैं लेकिन वेंटिलेटर डिब्बों में बंद पड़े हैं। जयपुर के सरकारी अस्पताल में आईसीयू बेड के एक लाख रुपये देने पड़ रहे हैं। यह सच्चाई राज्य के हर जिले की है।”

उन्होंने कहा, “इस पूरे मामले की तुरंत जाँच हो और दोषियों पर तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। अशोक गहलोत सरकार मरीजों को लाचार नहीं छोड़ सकती है।”