समाचार
राजनाथ सिंह देंगे भारत-चीन सीमा विवाद की जानकारी, दिग्विजय बोले, “मोदी नेहरू नहीं”

कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को मांग की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारतीय क्षेत्र में चीनी सैनिकों की घुसपैठ पर चर्चा के लिए संसदीय सत्र बुलाना चाहिए क्योंकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसी भी तथ्य को स्वीकार नहीं किया है। हालाँकि, राजनाथ सिंह पहले ही कह चुके हैं कि वे संसद में इसकी विस्तार से जानकारी देंगे।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा, “हम समझते हैं कि नरेंद्र मोदी, पंडित जवाहर लाल नेहरू नहीं हैं लेकिन इस मुद्दे की गंभीरता को देखते हुए संसद में चर्चा की मांग करते हैं।”

दिग्विजय का यह तंज भारत-चीन मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के बीच तुलना करते हुए 1962 का भारत-चीन युद्ध ध्यान में लाना रहा होगा। इसमें भारत को बहुत हानि हुई थी। उस दौरान नेहरू पर हार का ठीकरा फोड़ा गया था। हालाँकि, अब दिग्विजय सिंह ने मोदी के नेहरू जैसे ना होने के बयान दिए हैं, जिस पर अभी तक कांग्रेस की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

इससे पूर्व, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कह चुके हैं, “कांग्रेस के कई नेता सवाल पूछ रहे हैं कि भारत चीन सीमा पर क्या हो रहा है? मैं देश की जनता को आश्वस्त करना चाहूँगा कि संसद में इस बारे में विस्तार से जानकारी दूँगा।”

उन्होंने भरोसा दिलाया था कि भारत के आत्मसम्मान और स्वाभिमान पर चोट नहीं पहुँचने देंगे। पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीनी सेना के साथ जारी गतिरोध के मसले पर रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत और चीन इसे सुलझाने के लिए सैन्य और राजनयिक स्तर पर बातचीत कर रहे हैं, जिसके नतीजे सकारात्मक रहे हैं। देश का नेतृत्‍व मजबूत हाथों में है और हम देश के मान, सम्मान पर चोट बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं।