समाचार
राजनाथ सिंह का कांग्रेस के ‘न्याय’ पर वार, कहा बरीकियों में मिलेंगी बेतुकी बातें

विरोधियों पर हमला बोलते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भाजपा के अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को रद्द करने के रुख से जम्मू-कश्मीर में अलग से प्रधानमंत्री की मांग करने वाले और उनका समर्थन करने वाले परेशान हैं। उनका यह इशारा उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की भड़काऊ टिप्पणियों को लेकर था।

हिंदुस्तान टाइम्स  की रिपोर्ट के अनुसार, राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर कोई देश में दो प्रधानमंत्रियों के बारे में बात करता है तो हमारे पास अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को हटाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा। इस मसले पर हमारा दृष्टिकोण स्पष्ट है। इसे लागू करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। फिर चाहे कोई भी राजनीतिक दल कुछ भी कहे।

इससे पहले विदर्भ में चुनावी रैली के दौरान राजनाथ सिंह ने कहा था कि अगर 1971 में पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध जीतने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सराहना हो सकती है तो पुलवामा आतंकवादी हमले का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ क्यों नहीं की जा सकती है?

विपक्षी पार्टियों द्वारा बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के सुबूत मांगने पर भाजपा के वरिष्ठ मंत्री ने कहा, “बहादुर शरीर की गिनती नहीं करते, ये तो सिर्फ गिद्ध करते हैं।”

कांग्रेस की न्यूनतम गारंटी आय योजना (न्याय) को गृहमंत्री ने बेमतलब का वादा बताया। उन्होंने कहा, “कांग्रेस ने इसमें शर्त लगाई है कि अगर आपकी आय 12,000 रुपये से कम है तभी आप इस योजना का लाभ ले सकेंगे। न्यूनतम आय में 12,000 रुपये से जितनी कम राशि है, उसी का भुगतान किया जाएगा। अगर किसी परिवार की आय 11,500 रुपये है तो क्या उसे केवल 500 रुपये ही मिलेंगे। यह एक धोखा है। उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वे जानते हैं कि सत्ता में नहीं आ रहे हैं।”