समाचार
अयोध्या मामला- मुस्लिम पक्षकारों के वकील राजीव धवन ने फाड़े दस्तावेज, शिकायत दर्ज

सर्वोच्च न्यायालय में अयोध्या की विवादित भूमि की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्षकारों की अगुआई करने वाले वरिष्ठ वकील राजीव धवन के खिलाफ बार काउंसिल ऑफ इंडिया में शिकायत दर्ज की गई।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने सुनवाई के अंतिम दिन राजीव धवन की उग्रता के संबंध में शिकायत दर्ज करवाई है। दरअसल, उन्होंने सुनवाई के दौरान हिंदू महासभा द्वारा पेश किए गए दस्तावेजों और मानचित्रों को फाड़ दिया था।

हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने कुणाल किशोर की लिखी एक पुस्तक अयोध्या रिविजिटेड पेश की। यह भगवान राम की जन्मभूमि के स्थान को उस भूमि के टुकड़े पर रखती है, जहाँ बाबरी के खंडहर वर्तमान में हैं।

इस पुस्तक ने राजीव धवन को उकसाया था, जिन्होंने सुबूत के तौर पर इसके प्रवेश का विरोध करने के बाद इसे फाड़ने का फैसला किया था। मुख्य न्यायाधीश के उन्हें रोकने के लिए प्रयास के बावजूद धवन ने किसी की नहीं सुनी और किताब को फाड़ दिया।

इस पर मुख्य न्यायाधीश ने गुस्से में कहा, “हम बस उठ सकते हैं और बाहर निकल सकते हैं”। फटकार का सामना करने के बावजूद धवन ने यह दावा करते हुए किताब को बाहर फेंकना चाहा कि वह केवल किताब के पन्नों को बाहर फेंकना चाहते हैं और सीजेआई से उन्हें फाड़ने की अनुमति मिल गई थी।