समाचार
चुनावी वादा पूरा करने की राह पर राजस्थान कांग्रेस सरकार, बढ़ाया बेरोजगारी भत्ता

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 31 जनवरी को राजस्थान विश्वविद्यालय के एक समारोह में एक अहम घोषणा की। उन्होंने अपने भाषण में ऐलान किया कि 1 फ़रवरी 2019 से पुरुष बेरोजगरों को 3000 रूपए प्रतिमाह तथा महिलाओं एवं निशक्त बेरोजगरों को 3500 रुपये प्रतिमाह भत्ते के रूप में दिए जाएँगे।

अब तक राजस्थान में अक्षत योजना के तहत पुरूष बेरोजगारों को 650 रुपए प्रतिमाह तथा महलाओं एवं निशक्त बेरोजगारों को 750 रुपए प्रतिमाह दिए जाते थे।

राजस्थान चुनाव से पहले यूथ कांग्रेस ने हज़ारों बेरोजगारों से फॉर्म भरवाए थे, इन सभी बेरोजगारों को भी रोजगार कार्यालय में पंजीकृत करने की चर्चा चल रही है, राजस्थान पत्रिका  की रिपोर्ट में बताया गया।

बेरोज़गारी भत्ता का लाभ उठाने के लिए बरोजगार व्यक्ति को राजस्थान राज्य का निवासी होना तथा परिवार की वार्षिक आय दो लाख से कम होना ज़रूरी है। ऑनलाइन किए जाने वाले पंजीयन के अनुसार बेरोज़गारी भत्ता दिया जाएगा। सरकार का कहना है कि इस योजना पर सरकार प्रतिवर्ष लगभग 524 करोड़ रुपए खर्च करेगी।