समाचार
सावरकर के अपमान के बाद राजस्थान सरकार ने छात्रवृत्ति से हटाया उपाध्याय का नाम

राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने राज्य स्तरीय विद्यालय छात्रवृत्ति परीक्षा से पंडीत दीनदयाल उपाध्याय का नाम हटाने का निर्णय लिया है, हिंदुस्तान टाइम्स  ने रिपोर्ट किया। यह प्रतिस्पर्धी परीक्षा कक्षा 10 और 12 के सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए कराई जाती है और मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाती है।

गुरुवार (6 जून) को राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ने कहा, “यह नाम इसलिए हटाया जा रहा है क्योंकि भाजपा द्वारा इस नामको जोड़े जाने का कोई कारण नहीं था।” इसके बाद विवाद खड़ा हो गया जिसमें भाजपा ने आरोप लगाया कि कांग्रेस उपाध्याय के नाम से डरी हुई है।

इससे पहले कांग्रेस सरकार ने 10वीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की पुस्तक में स्वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर के नाम के आगे “पुर्तगाल का पुत्र” जुड़वाया था। नोटबंदी का विषय और जौहर का चित्र भी हटाया गया, साथ ही हल्दीघाटी युद्ध में भी कुछ परिवर्तन किए गए थे।

इसपर उठी प्रतिक्रिया के जवाब में गोविंद सिंह ने कहा कि पुस्तकों में जो भी बदलाव किए गए, वे विशेषज्ञों के सुझावों पर आधारित हैं।