समाचार
राजस्थान कांग्रेस ने भ्रष्टाचार-निरोधी ब्यूरो को पत्र लिख सरकार अस्थिर करने की बात कही

राजस्थान कांग्रेस ने भ्रष्टाचार-निरोधी ब्यूरो (एसीबी) को पत्र लिखते हुए राज्य सरकार को अस्थिर करने के प्रयास का आरोप लगाया है। इस बारे में पार्टी के विधायक महेश शर्मा ने ब्यूरो के महानिदेशक को पत्र लिखा।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, पत्र में कहा गया, “विश्वसनीय सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि कर्नाटक, मध्य प्रदेश और गुजरात की तर्ज पर राजस्थान कांग्रेस को समर्थन कर रहे विधायकों व निर्दलीय विधायकों को लालच देकर लोकतांत्रिक सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है।”

जोशी ने ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है। हालाँकि, आरोप-पत्र में उन्होंने किसी पार्टी का नाम नहीं लिखा है। एसीबी के महानिदेशक आलोक त्रिपाठी ने पत्र मिलने की पुष्टि की है।

उन्होंने कहा, “शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी। पहले इस मामले की जाँच की जाएगी।” इस बीच, राज्यसभा चुनावों को लेकर चर्चा के लिए कांग्रेस व समर्थक विधायक बुधवार (10 जून) शाम को मुख्यमंत्री आवास पहुँचे। उन्हें बसों से दिल्ली राजमार्ग पर स्थित एक रिसॉर्ट ले जाया गया। वहाँ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी पहुँचे।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, “हमारे पास पूर्ण बहुमत है। हम किसी के बहकावे में नहीं आएँगे। जनमत और प्रजातंत्र को कोई नहीं हरा सकता है।” बता दें कि राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए द्विवार्षिक चुनाव 19 जून को होने हैं। इसके लिए कांग्रेस ने सी वेणुगोपाल ओर नीरज डांगी को उम्मीदवार बनाया है।