समाचार
ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में अशोक गहलोत के भाई के ठिकानों पर की छापेमारी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने बुधवार (22 जुलाई) को छापा मारकर कार्रवाई की।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, ये छापे एक मनी लॉन्ड्रिंग मामले के तहत थे, जो उर्वरक घोटाले से जुड़े थे।

इसको लेकर देश भर के कई अन्य स्थानों पर छापेमारी की गई क्योंकि प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी पोटाश या एमओपी के निर्यात के एक मामले की जाँच कर रहे हैं, जो पौधे के विकास और गुणवत्ता के लिए एक आवश्यक घटक हैं।

अग्रसेन के स्वामित्व वाली जोधपुर की कंपनी अनुपम कृषि छापेमारी वाले स्थानों में से एक थी। ईडी के अनुसार, अग्रसेन पर आरोप है कि 2007 और 2009 के बीच रियायती दरों पर मिलने के बाद विदेश में कुछ कंपनियों को एमओपी बेचा गया। हालाँकि, यह मामला पहली बार 2012-13 में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) द्वारा पकड़े जाने के बाद सामने आया था।

ईडी ने धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत मामला दर्ज किया। मलेशिया और सिंगापुर की कंपनियों को औद्योगिक नमक के नाम पर एमओपी को सौदे के तहत निर्यात कर दिया। इससे सरकार को करीब 60 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ क्योंकि सब्सिडी का गलत फायदा उठाया गया।