समाचार
कांग्रेस कैसे उठाएगी श्रमिकों के किराए का खर्च जब रेलवे बेच ही नहीं रही यात्रा टिकट

कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था कि रेलवे मजदूरों से टिकट का पैसा वसूल रहा है। इन आरोपों का खंडन करते हुए रेल मंत्रालय ने सोमवार (4 मई) को बयान जारी कर कहा, “इन यात्राओं के लिए यात्रियों को कोई भी टिकट नहीं बेचा जा रहा है। सिर्फ राज्य सरकारों से 15 प्रतिशत पैसा वसूला जा रहा है।”

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, रेल मंत्रालय ने कहा, “भारतीय रेलवे प्रवासी श्रमिकों के टिकट के लिए सामान्य चार्ज वसूल रही है। इसके लिए राज्य सरकारों से 15 प्रतिशत ही लिया जा रहा है। रेलवे की ओर से कोई टिकट नहीं बेचा जा रहा है। सिर्फ उन्हीं को ट्रेनों में यात्रा करने के लिए बैठाया जा रहा है, जिनकी जानकारी राज्य सरकारें दे रही हैं।”

रेलवे ने कहा, “श्रमिक ट्रेन से जब उन्हें उनके गंतव्य तक पहुँचा दिया जाता है तो ट्रेन वहाँ से खाली ही वापस आ रही है। यात्रा के दौरान सामाजिक दूरी का पालन हो रहा है। हर प्रवासी श्रमिक को खाना और पानी की बोतल दी जा रही हैं।”

बता दें कि सोनिया गांधी ने सोमवार को संदेश जारी करते हुए घोषणा की थी कि कांग्रेस की प्रदेश इकाइयाँ प्रवासी श्रमिकों की यात्रा के टिकट का खर्चा उठाएँगी। अब जब रेलवे ने सफाई दे दी तो कांग्रेस फिर से केंद्र सरकार पर हमला कर रही है।