समाचार
कश्मीर हिंसा पर पाकिस्तान ने दिया राहुल गांधी का हवाला, कांग्रेस नेता ने दी सफाई

पाकिस्तान ने भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा कश्मीर में हिंसा और मानवाधिकारों के उल्लंघन का दावा करते हुए संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के अंतर्गत आने वाले विभिन्न कार्य समूहों और मानवाधिकार परिषद के विशेष प्रतिनिधियों को एक पत्र लिखा था। इसमें उसने राहुल गांधी के भाषण का हवाला दिया था। वहीं, कांग्रेस नेता ने बुधवार (28 अगस्त) को इसपर सफाई दी है।

पाकिस्तान ने कश्मीर को बल द्वारा कब्जे में करने वाला कदम और अंतर-राष्ट्रीय कानून के तहत अवैध बताया है। उसने कहा, “सुरक्षा बलों ने लोगों को ईद पर इकट्ठा नहीं होने दिया। भारत सरकार के संचार व्यवस्था बंद करने से उल्लंघन की रिपोर्ट करना मुश्किल था। हालाँकि, कब्जा किए गए क्षेत्रों से सुरक्षा बलों और निहत्थे कश्मीरियों के बीच टकराव की जानकारियाँ इस बात को उजागर करती हैं।”

पाकिस्तान ने पत्र में कांग्रेस नेता राहुल गांधी का हवाला दिया। उसने कहा, “ये हिंसा मुख्य नेताओं ने भी मानी है, जिसमें कांग्रेस पार्टी के नेता शामिल हैं। राहुल गांधी ने भी माना था कि जबरन की पाबंदी की वजह से कश्मीर में लोग मर रहे हैं।”

लगता है कि पत्र में राहुल गांधी की ओर से 11 अगस्त को ट्विटर पर डाले गए वीडियो के हवाले से यह बात कही गई है। इसमें उन्होंने कहा था, “रिपोर्ट्स आई हैं कि जम्मू-कश्मीर में चीजें गलत हो रही हैं। हिंसा की खबरें हैं। जम्मू-कश्मीर में लोगों के मरने की खबरें हैं।”

उधर, राहुल ने ट्वीट कर सफाई दी, “मैं कई मुद्दों पर इस सरकार से असहमति रखता हूँ लेकिन एक चीज साफ कर देना चाहता हूँ कि कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है। पाकिस्तान या दुनिया के किसी देश के लिए इसमें दखल देने की कोई जगह नहीं है।” उन्होंने एक और ट्वीट किया, “जम्मू-कश्मीर में हिंसा पाकिस्तान प्रायोजित है,जो पूरी दुनिया में आतंकवाद का समर्थन के रूप में कुख्यात है।”