समाचार
सैफई में सिर मुंडवाकर छात्रों से रैगिंग को कुलपति ने बताया संस्कार, एमसीआई सख्त

उत्तर प्रदेश के इटावा में सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय ने 150 से अधिक नए छात्रों का सिर मुंडवाकर उनकी रैगिंग की गई। हालाँकि, विश्वविद्यालय प्रशासन रैगिंग की बात मानने से इनकार कर रहा है। विश्वविद्यालय के कुलपति ने इस घटना को संस्कार बताया है, जिसके बाद मामले की जाँच के लिए दो सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई है।

नवभारत टाइम्स  की रिपोर्ट के अनुसार, सैफई विश्वविद्यालय में 150 से अधिक छात्रों का रैगिंग की वजह से सिर मुंडवा दिया गया। इसके बाद उनकी परिसर में परेड करवाई गई। कुलपति डॉ. राजकुमार का कहना है, “रैगिंग की बात आधारहीन है। प्राथमिक जाँच रिपोर्ट में इस तरह की घटना से इनकार किया गया है।”

उधर, जिला अधिकारी को भेजी गई रिपोर्ट में एसडीएम ने घटना की पुष्टि की है। रिपोर्ट में विश्वविद्यालय प्रशासन पर लापरवाही और तथ्यों को छिपाने की कोशिश करने का आरोप लगाया गया है। हिंदुस्तान लाइव  की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) ने कुलपति को नोटिस जारी कर छात्रों के साथ रैगिंग की घटना को लेकर 24 घंटे में जवाब मांगा है।

मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए एमसीआई ने चेतावनी दी है कि अगर जवाब न दिया गया तो एक साल के लिए मान्यता रद्द की जाएगी या फिर प्रति छात्र 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। यह भी पूछा कि वरिष्ठ छात्रों को एक महीने के लिए निष्कासित क्यों नहीं किया गया? मालूम हो कि सर्वोच्च न्यायालय पहले ही शैक्षणिक संस्थानों में रैगिंग को गैरकानूनी करार देकर उस पर पाबंदी लगा चुका है।