समाचार
डॉन मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश को सौंपने से पंजाब की कांग्रेस सरकार ने किया मना

उत्तर प्रदेश सरकार को पंजाब के रूपनगर जेल में बंद माफिया डॉन से विधायक बने मुख्तार अंसारी को वहाँ की कांग्रेस सरकार ने सौंपने से मना कर दिया है। इसके लिए पंजाब सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा तक दे दिया है।

टाइम्स नाऊ हिंदी की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ सरकार ने कहा कि मु्ख्तार अंसारी को ना सौंपे जाने की वजह से उसके खिलाफ चल रहे मामलों की कार्रवाई नहीं हो पा रही है। पंजाब की कांग्रेस सरकार ने आरोपी की हिरासत देने से मना करते हुए सर्वोच्च न्यायालय में एक हलफनामा दायर किया है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने आगे कहा कि पंजाब सरकार अंसारी के स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कह रही है कि वह कथित तौर पर उच्च रक्तचाप, मधुमेह, पीठ दर्द, त्वचा की एलर्जी और अवसाद से पीड़ित हैं। इसका उद्देश्य हमारी याचिका को खारिज करना है।

सर्वोच्च न्यायालय में अमरिंदर सिंह सरकार ने कहा कि हम चिकित्सीय परामर्श के अनुसार काम कर रहे हैं। आरोपी को उत्तर प्रदेश को ना सौंपने के लिए हमारा कोई पूर्व निर्धारित षड्यंत्र नहीं था। हालाँकि, कांग्रेस सरकार यह स्वीकार रही है कि मुख्तार अंसारी पर हत्या, जबरन वसूली और गैंगस्टर अधिनियम के तहत 14 आपराधिक मामलों के मुकदमे हैं लेकिन बीमारी के कारण उसे सौंपा नहीं जा सकता है।

पंजाब सरकार यह भी कह रही कि आरोपी ने जबरन वसूली के मामले में जमानत के लिए आवेदन नहीं किया है और ना ही पुलिस जनवरी 2019 में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद कोई आरोप पत्र दाखिल कर पाई है।