समाचार
पंजाब में विद्युत अभाव को देखते हुए उद्योगों व सरकारी कार्यालयों में कटौती का आदेश

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अत्यधिक तापमान की वजह से विद्युत अभाव को देखते हुए कल (1 जुलाई) को आदेश जारी किया कि सरकारी कार्यालय अब सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक काम करेंगे।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, विद्युत की अधिकतम मांग 14,500 मेगावॉट तक बढ़ने पर मुख्यमंत्री ने कृषि क्षेत्र के लिए प्राथमिकता, पर्याप्त और निर्बाध ऊर्जा आपूर्ति सुनिश्चित करने को राज्य में संचालित ऊर्जा-गहन उद्योगों को विद्युत आपूर्ति में तत्काल प्रभाव से कटौती करने के भी आदेश जारी किए।

अमरिंदर सिंह ने विशेषरूप से कहा, “बिजली ना आने के कारण किसानों को धान रोपाई का बहुमूल्य समय गंवाना पड़ रहा है।”

यही नहीं, उन्होंने आंदोलनकारी विद्युत विभाग के कर्मचारियों से अपने विरोध प्रदर्शन को वापस लेने का अनुरोध भी किया है। इसकी वजह से फीडरों और सब-स्टेशनों के समय पर ठीक नहीं होने से विद्युत संकट अत्यधिक बढ़ गया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि उनकी शिकायतों पर विधिवत विचार किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कर्मचारियों की शिकायतों के समाधान के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव (विकास), विशेष सचिव (वित्त) और पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) को मिलाकर तीन सदस्यीय समिति बनाई है।