समाचार
बुलेट ट्रेन गुज़रेगी रामनगरी अयोध्या से, दिल्ली-वाराणसी गलियारे की रिपोर्ट हो रही तैयार

एक बड़ा विकास रामनगरी अयोध्या की कनेक्टिविटी और उसके बुनियादी ढाँचे को बढ़ावा दे सकेगा। यह शहर प्रस्तावित दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन गलियारे के एक स्टॉप में से है। इसके लिए सरकार वर्तमान में विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर रही है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, बुलेट ट्रेन परियोजना शहर के प्रमुख विकास को बढ़ावा देने के रूप में आ रही है। यह शहर जल्द ही भगवान राम के एक शानदार और भव्य मंदिर को देखेगा।

800 किलोमीटर लंबी बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए डीपीआर नेशनल हाई-स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) द्वारा तैयार की जा रही है। इसको उत्तर प्रदेश के मथुरा, प्रयागराज, आगरा, कानपुर, लखनऊ, इटावा, भदोही, रायबरेली और जेवर में आगामी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से जोड़ने का प्रस्ताव है।

जल्द से जल्द डीपीआर तैयार करने के लिए एनएचएसआरसीएल द्वारा लाइट डिटेक्शन ऐंड रेंजिंग सर्वे (लाइडर) तकनीक का उपयोग किया जाएगा। मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए मुख्य रूप से इसकी उच्च सटीकता की वजह से लाइडर को भी अपनाया गया था। इसके लिए हवाई लाइडर का उपयोग करके भूमि सर्वेक्षण केवल 12 सप्ताह में पूरा कर लिया गया था। अगर इसे किसी और माध्यम से किया जाता तो इसमें करीब 10 से 12 महीनों का समय लग जाता।