समाचार
प्रियंका का प्रभाव? कांग्रेस का मत प्रतिशत घटा, गठबंधन से मायावती ने उठाया लाभ

प्रियंका वाड्रा जिन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए महासचिव नियुक्त किया गया था, वे पार्टी को पुनर्जाग्रत करने में असफल हुई हैं।

रुझानों के अनुसार कांग्रेस मात्र एक सीट पर आगे है और 2014 की तुलना में इसका मत प्रतिशत 7.5 प्रतिशत से घटकर 6.3 प्रतिशत पर आ गया है। अबी तक के रुझानों के अनुसार राहुल गांधी स्मृति ईरानी से 28,000 मतों से पीचे हैं और संभवतः हार जाएँगे।

सपा-बसपा-रालोद के गठबंधन के बावजूद भाजपा 1 सीट पर जीत चूकी है और 59 सीटों पर आगे चल रही है, यानी कि कुल 60। वहीं यदि इस गठबंधन का आँकलन किया जाए तो पाएँगे कि मायावती ने इसका ज़्यादा लाभ उठाया है।

सपा अपने गढ़ आज़मगढ़ और मैनपुरी तक सिमट कर रह गई है और फिरोज़ाबाद, बदायूँ और कन्नौज जैसी अपनी पारंपरिक सीटों पर भी संघर्षरत है। दूसरी ओर बसपा 13 सीटों पर आगे चल रही है।