समाचार
कांग्रेस अध्यक्ष की होड़ में नहीं प्रियंका गांधी, कहा- ‘बैठक में मेरे नाम पर विचार न हो’

माना जा रहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गुरुवार को पार्टी महासचिवों की बैठक में कह दिया कि निवर्तमान पार्टी प्रमुख राहुल गांधी की जगह पर उनके नाम का विचार नहीं होना चाहिए।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, कैप्टन अमरिंदर सिंह और शशि थरूर जैसे वरिष्ठ नेताओं की टिप्पणियों के बाद पार्टी में बढ़ती अस्थिरता को देखते हुए प्रियंका गांधी का यह कथन महत्वपूर्ण है।

संसद सत्र के समाप्त होने के बाद अगले सप्ताह कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में पार्टी के अध्यक्ष पद को लेकर निर्णय होगा। इसकी तिथि तय नहीं है। बैठक 8 से 10 अगस्त के बीच हो सकती है। मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, “राहुल गांधी बैठक में हिस्सा लेंगे क्योंकि वह सीडब्ल्यूसी का हिस्सा हैं।”

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती के मौके पर कार्यक्रमों की रूपरेखा तय करने के लिए पार्टी महासचिव और प्रभारियों की बैठक हुई। इस दौरान पार्टी के नेताओं ने राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद इस पद की भर्ती को लेकर चर्चा की। एक वरिष्ठ नेता ने बताया, “जब एक महासचिव ने सुझाव दिया कि प्रियंका जी को कार्यभार संभालने पर विचार करना चाहिए तो उन्होंने कहा कि उनका नाम नहीं लिया जाना चाहिए।”

एआईसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने प्रस्ताव रखा कि संसद सत्र के बाद बैठक हो सकती है। सीडब्ल्यूसी नेतृत्व विकल्पों पर चर्चा करने के अलावा पित्रोदा जैसे वरिष्ठ नेताओं के सुझावों के आधार पर पार्टी के खाका पर विचार कर सकती है।

पित्रोदा ने द हिंदू को बताया, “मैंने कहा कि कांग्रेस के पास हर जिले में 5,000 समर्पित कार्यकर्ता होने चाहिए। संगठन की बनावट में सदस्यता, मानव संसाधन, धन, प्रौद्योगिकी समेत और पदों के प्रभारी होने चाहिए।” 20 अगस्त को राजीव गांधी सरकार के प्रमुख काम प्रदर्शित किए जाएँगे। एक दिन बाद दिल्ली में राष्ट्रीय स्तर पर संगोष्ठी होगी।