समाचार
सीडीएस घोषणा से पूर्व रक्षा मंत्रालय ने सेना सेवा नियमों में संशोधन किया
आईएएनएस - 30th December 2019

रक्षा मंत्रालय ने सेना नियम, 1954 में सेवा और कार्यकाल के नियमों में संशोधन किया है। इस कदम को जनरल बिपिन रावत को भारत के पहले रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख (सीडीएस) के रूप में नियुक्त करने के सरकार के इरादों के एक संकेत के रूप में देखा जा रहा है।

28 दिसंबर की अपनी आधिकारिक अधिसूचना में, मंत्रालय ने कहा है कि सीडीएस या त्रि-सेवा प्रमुख 65 वर्ष की आयु तक सेवा कर सकेंगे, “बशर्ते, केंद्र सरकार सार्वजनिक हित में, यदि आवश्यक समझती है तो, ऐसा करने के लिए, इस तरह की अवधि या अवधि बढ़ाने के लिए उप नियम (5) के खंड (क) के स्पष्टीकरण के लिए निर्दिष्ट रक्षा स्टाफ के प्रमुख को सेवा का विस्तार दिया जा सकता है क्योंकि यह 65 वर्ष की अधिकतम आयु के लिए आवश्यक विषय हो सकता है।”, अधिसूचना में कहा गया।

आपको बता दें कि सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का कार्यकाल 31 दिसंबर 2019 को पूरा हो रहा है।

मौजूदा नियमों के अनुसार, त्रि-सेवा प्रमुख या सीडीएस 62 वर्ष की आयु तक या तीन साल तक सेवा कर सकते हैं, या जो भी पहले हो।

इस घटनाक्रम को इस बात के संकेत के रूप में देखा जा रहा है कि भारत के पहले सीडीएस को नियुक्त करने केे लिए सरकार की पहली पसंद कौन है।

24 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में सीडीएस पद और इसके अधिकार और कर्तव्यों पर मोहर लगी थी।

सीडीएस त्रि-सेवाओं के मामलों पर रक्षा मंत्री के प्रधान सैन्य सलाहकार के रूप में कार्य करेगा। तीन सेवा प्रमुखों  द्वारा अपने संबंधित बलों से संबंधित मामलों पर रक्षा मंत्री को सलाह देना जारी रहेगा।

(इस समाचार को वायर न्यूज फीड की सहायता से प्रकाशित किया गया है।)