समाचार
15 जुलाई को श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपित होगा चंद्रयान-2, मॉड्यूल का एकीकरण पूरा

भारत ने दूसरे मिशन में चंद्रमा पर जाने की तैयारी पूरी कर ली है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष यान चंद्रयान-2 के मॉड्यूल के एकीकरण को पूरा कर लिया है।

बैंगलोर मिरर  की रिपोर्ट के अनुसार, चंद्रयान -2 को जीएसएलवी एमके आठ-एम 1 पर 15 जुलाई को श्रीहरिकोटा से 2.51 बजे लॉन्च किया जाएगा। अंतरिक्ष यान में ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) तीन मॉड्यूल हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, इसरो ने बताया, “सभी परीक्षण पूरे करने के बाद रोवर को विक्रम लैंडर के साथ एकीकृत किया गया। इसने विक्रम लैंडर (प्रज्ञान रोवर के साथ इकट्ठा होकर) और ऑर्बिटर के एकीकरण को भी पूरा किया।

तीनों मॉड्यूलों को एकीकृत करने के साथ चंद्रयान -2 को लॉन्च वाहन जीएसएलवी एमके3-एम 1 के अंदर रखा जाएगा। आर्बिटर और लैंडर दोनों जीएसएलवी से जुड़े रहेंगे, जबकि रोवर लैंडर के भीतर स्थापित किया जाएगा।

लॉन्च होने के बाद जब आर्बिटर चांद की कक्षा में पहुँचेगा तो लैंडर उससे अलग होकर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पूर्व निर्धारित स्थान पर उतरेगा। इसके बाद रोवर इसमें से निकल कर चांद की सतह पर जाकर नमूने एकत्र करेगा और उसका विश्लेषण कर आंकड़े इसरो को भेजेगा। रिपोर्ट के अनुसार, इस सप्ताह अंतरिक्ष यान और प्रक्षेपण यान का एकीकरण होगा।